संकल्प द राइजिंग उत्तराखंड फाउंडेशन ने आयोजित श्रद्धांजलि सभा मे सीडीएस विपिन रावत को ग्रेनोवेस्ट निवासियों ने दी श्रद्धांजलि ।

संकल्प द राइजिंग उत्तराखंड फाउंडेशन ने आयोजित श्रद्धांजलि सभा मे सीडीएस विपिन रावत को ग्रेनोवेस्ट निवासियों ने दी श्रद्धांजलि ।

संकल्प द राइजिंग उत्तराखंड फाउंडेशन ने शनिवार दिनांक 11 दिसंबर 2021 को सुबह 11:00 से 1:30 के बीच शिव मंदिर प्रांगण चेरी काउंटी चौक , ग्रेटर नोएडा वेस्ट, गौतमबुधनगर में विमान दुर्घटना में शहीद हुए रक्षा प्रमुख चीफ जनरल बिपिन रावत उनकी धर्मपत्नी श्रीमती मधुलिका रावत 11 अन्य सशस्त्र बलों के अधिकारी व जवानों का आकस्मिक निधन होने पर अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित करी।

बुधवार को भारत ने अपने पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल विपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 सैन्य बल के अधिकारी, सुरक्षाकर्मी की हवाई दुर्घटना में खो दिया है। जिसके कारण संपूर्ण राष्ट्र शोकाकुल है सभी देशवासियों के मन में भारी पीड़ा है। सीडीएस जनरल रावत दुनिया की चौथी सबसे बड़ी सेना का नेतृत्व कर रहे थे। जिनके सिर्फ एक इशारे पर दुश्मनों के पसीने छूट जाते थे।उनके ऊपर देश को आधुनिक बनाने व तीनों सेनाओं के एकीकरण की बहुत बड़ी जिम्मेदारी थी।

16 मार्च 1958 में उत्तराखंड राज्य के जिला पौड़ी गढ़वाल मे जन्मे जनरल बिपिन रावत जी ने अपनी शुरुआती पढ़ाई शिमला से करी उसके पश्चात वह देहरादून की इंडियन मिलिट्री एकेडमी में गए वहां उन्हें सबसे शानदार प्रदर्शन के लिए सम्मानित भी किया गया, उसके पश्चात जनरल साहब ने मेरठ के चौधरी चरण सिंह से पीएचडी करी और डॉक्टरेट की उपाधि ग्रहण करी, इसके पश्चात आगे की पढ़ाई के लिए वह अमेरिका के आर्मी कमांड व जनरल स्टाफ कॉलेज गएसन 16 दिसंबर 1978 में मात्र 20 वर्ष की अवस्था में इन्होंने भारतीय सेना में भर्ती हुए,और सेना में सेकंड लेफ्टिनेंट के पद पर थे, उसके पश्चात वह लेफ्टिनेंट बनेफिर से सेना में ही वह कैप्टन व मेजर बने, फिर सन 2007 में को ब्रिगेडियर बने फिर ठीक 10 साल बाद 2017 में उनको थल सेना में अध्यक्ष के पद पर नियुक्त किया गया अपने 43 वर्षों की सेवा में इन्होंने कई सारी उपलब्धियां हासिल कर भारत देश का गौरव बढ़ाने में उन्होंने हर संभव प्रयास किया।

सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक कई सारे महत्वपूर्ण निर्णयों का नेतृत्व किया।तीनों सेनाओं के बीच एकीकरण केनिर्णय को ध्यान में रखते हुए सन 1 जनवरी 2020 को जनरल साहब को देश का पहला सीडीएस नियुक्त किया गया, उनकी बनाई जा रही सुरक्षा योजनाएं अन्य सभी देशों पर गंभीर प्रभाव डाल रही थी।यह देश का दुर्भाग्य है कि इस प्रकार से देश के पहले सीडीएस का दुर्घटना पूर्ण देहांत हो गया। उनके जाने से संपूर्ण राष्ट्र आहत हुआ है।संकल्प द राइजिंग उत्तराखंड फाउंडेशन की पूरी टीम ने स्वर्गीय जनरल बिपिन रावत उनकी श्रीमती मधुलिका रावत जी व अन्य सैन्य बल के अधिकारियो की हुई अपूरणीय क्षति के लिए अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि कार्यक्रम के माध्यम से दिवंगत सभी आत्माओं की शांति के लिए परमात्मा से प्रार्थना करी जिसमें की शांति के लिए 2 मिनट का मौन भी रखा गया।

Poltics